जानिए प्राइवेट पार्ट में खुजली रोकने के घरेलू इलाज और उपाय

योनि या जननांग में खुजली (Vaginal Itching) एक बेहद सामान्य समस्या है और हर महिला को अपने जीवन में कभी न कभी इसका सामना करना पड़ता है। इसकी वजह ये है कि जननांग में खुजली कई तरह की समस्याओं का संकेत है। जैसे- पीरियड्स के दौरान होने वाले हार्मोनल बदलाव, प्रेगनेंसी, मेनोपॉज से लेकर यीस्ट इंफेक्शन तक। बहुत से मामलों में खुजली की यह समस्या, यौन संचारित रोग STD का संकेत भी हो सकती है। जननांग में खुजली क्यों हो रही है, इसके कारण और इलाज के बारे में यहां जानें।

  1. खुजली का कारण
    जननांग में खुजली के कई कारण हो सकते हैं-

यीस्ट संक्रमण – योनि में कई तरह के बैक्टीरिया और फफूंद होते हैं । आमतौर पर यह स्वस्थ संतुलन को बनाए रखते हुए योनि में रहते हैं। लेकिन अगर आप एंटीबायोटिक्स का सेवन करें, अगर आप गर्भवती हों या हार्मोन थेरेपी ले रही हों तो शरीर में एस्ट्रोजेन की मात्रा बढ़ जाती है और तब फफूंदी और बैड बैक्टीरिया की मात्रा, गुड बैक्टीरिया से ज्यादा हो जाती है। इस कारण यीस्ट संक्रमण होता है।

कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस – अगर आपको योनि में लाल रंग का खुजली वाला चकत्ता दिखे तो आपको कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस की समस्या है और ये इन कारणों से भी हो सकती है ।
लेटेक्स कॉन्डम या वजाइनल लुब्रिकेंट से एलर्जी

नए साबुन, सैनिटरी नैपकिन से स्किन में जलन

बहुत ज्यादा टाइट अंडरवेयर पहनना

लंबी दूरी तक साइकिल चलाना जैसी गतिविधि

बैक्टीरियल वेजिनोसिस – यह एक ऐसा इंफेक्शन है जिसमें योनि में गुड और बैड बैक्टीरिया का संतुलन बिगड़ने लगता है। ऐसे में जननांग में खुजली के अलावा वहां से सफेद रंग का बदबूदार स्त्राव भी होने लगता है और पेशाब करने के दौरान जलन भी महसूस होती है। असुरक्षित सेक्स करना, नए पार्टनर के साथ सेक्स करना, योनि में douching या स्टीमिंग की वजह से भी बैक्टीरियल वेजिनोसिस होने का खतरा रहता है।

यौन संचारित रोग – क्लैमाइडिया, गोनोरिया, जननांग में मस्सा या गांठ और जननांग में दाद ये कुछ ऐसे यौन संचारित रोग हैं जिनकी वजह से कई दूसरे लक्षणों के साथ ही जननांग में खुजली भी होने लगती है।

हार्मोनल चेंज – शरीर में अगर सेक्स हार्मोन के लेवल में बदलाव हो तो इस कारण भी जननांग में खुजली हो सकती है। मेनोपॉज के दौरान जब शरीर में एस्ट्रोजेन का लेवल कम हो जाता है तो इस कारण भी योनि में सूखापन और खुजली होती है। बहुत सी महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान भी जननांग में खुजली होती है।

प्यूबिक एरिया के बाल हटाना – प्यूबिक एरिया में शेविंग या वैक्सिंग करने की वजह से भी कई बार रेडनेस होती है जिस कारण खुजली होती है। अगर आप पहली बार प्यूबिक एरिया में वैक्सिंग कर रही हों तो पहले ये जान लें कि कहीं आपको वैक्स से एलर्जी तो नहीं है।

  1. योनि में खुजली का इलाज

यीस्ट इंफेक्शन का इलाज – इस तरह के संक्रमण के दौरान डॉक्टर एंटीफंगल क्रीम प्रभावित हिस्से में लगाने की सलाह देते हैं। कुछ मामलों में डॉक्टर खाने की दवा भी दे सकते हैं। साफ-सफाई का ध्यान रखना और हेल्दी डाइट का सेवन करना भी जरूरी है।

कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस का इलाज – इस समस्या में सबसे जरूरी है कि आप उस कारण को दूर करें जिसकी वजह से आपकी स्किन में इरिटेशन हो रही है। फिर चाहे वह एलर्जी पैदा करने वाला कोई तत्व हो या फिर बेहद टाइट अंडरवेयर। प्रभावित हिस्से को रगड़े नहीं वरना समस्या और बढ़ सकती है।

त्वचा की समस्या और एसटीडी का इलाज – सोरायसिस, एक्जिमा, लाइकेन स्क्लेरोसस और एसटीडी जैसी समस्याओं में डॉक्टर आपको जरूरी दवाइयां देंगे।

मेनोपॉज का इलाज – मेनोपॉज से जुड़ी जननांग खुजली की समस्या और दूसरे लक्षणों को कम करने के लिए आप हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी ले सकती हैं।

  1. योनि में खुजली से बचने का तरीका

योनि से आने वाली गंध को कम करने और उसे साफ रखने के लिए कुछ साल पहले योनि में स्टीमिंग और douching की प्रक्रिया काफी पॉप्युलर हुई थी। ये दोनों ही तरीके अब तक टेस्टेड नहीं है और डॉक्टर भी इसका सुझाव नहीं देते हैं।

इन दिनों मार्केट में सुगंध वाले सैनिटरी नैपकिन और टैम्पोन्स मिल रहे हैं जो मासिक धर्म के दौरान आने वाली गंध को दूर करने का दावा करते हैं। लेकिन इस तरह के सुगंधित उत्पादों का इस्तेमाल करने से कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस हो सकता है।

अपने लिए सही साइज का अंडरवेयर चुनें जो आपको अच्छे से फिट आता हो।

सेक्स के दौरान कॉन्डम यूज करें । अगर आपको लेटेक्स से एलर्जी हो तो आप पोलियूरेथेन या पोलिआइसोप्रेन कॉन्डम का इस्तेमाल कर सकती हैं। साथ ही बहुत ज्यादा सेक्शुअल पार्टनर भी न रखें।

मास्टरबेशन से पहले और बाद में अपने हाथों को और साथ में सेक्स टॉय को भी अच्छी तरह से धोने से इंफेक्शन से बचा जा सकता है जिसकी वजह से जननांग में खुजली नहीं होती।

लंबे समय तक गीले कपड़े पहनकर रखें तो इससे भी योनि की त्वचा में इरिटेशन हो सकती है। ऐसे में अगर आप बारिश या पसीने की वजह से गीली हो जाएं तो जितनी जल्दी हो कपड़े बदल लें। साथ ही जिम के कपड़े और स्विमसूट पर भी यह नियम लागू होता है।

रिसर्च में यह बात साबित हुई है कि धूम्रपान करने की वजह से योनि में गुड बैक्टीरिया की संख्या कम होने लगती है। इस कारण इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है और जननांग में खुजली होने लगती है।

  1. खुजली रोकने के घरेलू उपाय
    जननांग में खुजली बेहद तकलीफदेह हो सकती है। इन नुस्खों को अपनाकर जननांग में खुजली में राहत मिलेगी।

बेकिंग सोडा – अगर खुजली एक्जिमा या सोरायसिस की वजह से हो रही है तो बेकिंग सोडा इस्तेमाल कर सकती हैं। आप चाहें तो नहाने के पानी में एक चौथाई कप बेकिंग सोडा डाल सकती हैं या फिर बेकिंग सोडा और पानी का पेस्ट बनाकर प्रभावित हिस्से में लगा सकती हैं।

एलोवेरा जेल – एलोवेरा जेल में भी एंटीबैक्टीरियल, एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं जिससे खुजली में राहत मिलती है। एलोवेरा जेल लगाते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि आप इसे सिर्फ योनिमुख पर लगाएं अंदर नहीं।

सूती अंडरवेयर पहनें – सूती कपड़े से बने अंडरवेयर पहनें जो स्किन को सांस लेने में मदद करते हैं और पसीने को भी दूर करते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *