तेज बारिश व हवा के साथ बंगाल-ओडिशा में आज तबाही मचा सकता है सुपर साइक्लोन अम्फान

Top News मौसम

महाचक्रवात अम्फान आज यानी (बुधवार) को विकराल रूप धारण कर सकता है और बड़ी तबाही मचा सकता है। सुंदरवन के करीब बांग्लादेश में दीघा और हटिया के बीच टकराने की आशंका है। मगर इससे पहले ओडिशा में तेज हवा के साथ बारिश का दौर शुरू हो गया है। हालांकि, आपदा प्रबंधन दल और सैन्य बचाव दल संभावित स्थितियों से निपटने को तैयार है। Amphan के संभावित प्रकोप को लेकर पूर्वी भारत के ओडिशा, पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश में बड़े पैमाने पर लाखों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने की कवायद जारी है। महाचक्रवात से निपटने में दोनों देशों और संबंधित राज्यों का प्रशासनिक अमला पूरी ताकत से जुटा है। सरकारें व एजेंसियां जरूरी सूचनाओं का त्वरित आदान-प्रदान कर रहे हैं। यह दो दशकों में बंगाल की खाड़ी में दूसरा महाचक्रवात है। वर्ष 1999 में Odisha में आये महाचक्रवात के बाद Amphan बंगाल की खाड़ी में यह ऐसा दूसरा चक्रवात है। तो चलिए जानते हैं इससे जुड़ी कुछ खास बातें…

  1. Amphan तूफान के संभावित खतरे को देखते हुए केंद्र से लेकर राज्य सरकारें अलर्ट पर हैं। ओडिशा और बंगाल में तटीय इलाकों को पूरी तरह से खाली करा दिया गया है। अलर्ट सिस्टम आधारित एसएमएस भेजे जा रहे हैं। तटीय इलाकों में आपात सायरन बज रहे हैं। वहीं, पश्चिम बंगाल में करीब तीन लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। समुद्री क्षेत्र में मछली पकड़ने की गतिविधियां निलंबित की गई हैं। तूफान के संभावित क्षेत्रों में लोगों के चेहरों पर दहशत देखी जा रही है। इस बीच बारिश भी तेज हो गई है।
  2. सरकारें व एजेंसियां जरूरी सूचनाओं का त्वरित आदान-प्रदान कर रहे हैं। यह दो दशकों में बंगाल की खाड़ी में दूसरा महाचक्रवात है। सोमवार को महाचक्रवात के ओडिशा तटों के करीब पहुंचने के साथ ही कुछ हिस्सों में भारी बारिश का दौर शुरू हो गया है। Odisha और बंगाल में लगातार तेज हवा के साथ बारिश हो रही है। सोमवार को महाचक्रवात के Odisha तटों के करीब पहुंचने के साथ ही कुछ हिस्सों में भारी बारिश का दौर शुरू हो गया था।
  3. तीन लाख लोगों को शिविरों में पहुंचाया गया पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि चक्रवात के मद्देनजर West Bengal के तटीय क्षेत्रों से कम से कम 3 लाख लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। उन्हें मास्क दिए गए हैं। वरिष्ठ अधिकारी स्थिति की निगरानी कर रहे हैं और हेल्पलाइन शुरू की गई है।
  4. भारी बारिश के साथ तूफान की आशंका : भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा है कि पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर, दक्षिण और उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली और कोलकाता जिले प्रभावित हो सकते हैं। जबकि ओडिशा के तटीय जिलों जगतसिंहपुर, केंद्रापाड़ा, भद्रक, जाजपुर और बालासोर में भारी वर्षा और तूफान आएगा। सीमा सुरक्षा बल ने West Bengal में भारत-बांग्लादेश नदी क्षेत्र मोर्चे और इच्छामती नदी की सुरक्षा के लिए तैनात अपनी तीन चलती फिरती सीमा चौकियों और जहाज तथा 45 अन्य गश्ती नौकाओं को चक्रवात के मद्देनजर सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया है।
  5. ओडिशा में 11 लाख लोग निकाले गए: Odisha के विशेष बचाव आयुक्त पीके जेना ने कहा कि एहतियाती कदम के तौर पर निचले इलाकों, तटीय जिलों में मिट्टी के घरों में रह रहे 11 लाख लोगों को निकालने का काम जारी है। यह मंगलवार देर रात तक पूरा कर लिया जाएगा।
  6. महाचक्रवात ‘Amphan ‘ मंगलवार को कुछ कमजोर पड़कर ‘अत्यंत भीषण’ चक्रवाती तूफान में बदल गया लेकिन अभी भी यह इतना ताकतवर बना हुआ है कि यह West Bengal और Odisha के तटीय जिलों में नुकसान पहुंचा सकता है। इन दोनों राज्यों से लाखों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। यह West Bengal में दीघा तट से 510 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी में केन्द्रित है था, इसलिए इसके उत्तर-उत्तर पूर्व की ओर बढ़ने का अनुमान है। इन दोनों राज्यों में सतर्कता बरती जा रही है।
  7. मौसम विज्ञान केंद्र, भुवनेश्वर के निदेशक एच आर विश्वास ने कहा कि सुबह ‘अम्फान का केंद्र पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर था, जो पारादीप (ओडिशा) से करीब 420 किलोमीटर दक्षिण, दीघा से 570 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम और बांग्लादेश के खेपुपारा से 700 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम में है। उन्होंने कहा कि इसके अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान के रूप में कमजोर होकर उत्तर-उत्तरपूर्व की दिशा में बंगाल की खाड़ी के ऊपर पहुंचने और बुधवार की दोपहर या शाम तक West Bengal -बांग्लादेश तटों के बीच दीघा और हटिया द्वीप के बीच से गुजरने की संभावना है और तूफान में हवाओं की गति निरतंर 155 से 165 किलोमीटर प्रति बनी रहेगी जो बीच-बीच में 180 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ सकती है।
  8. राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के प्रमुख एस.एन. प्रधान ने कहा कि आसन्न महाचक्रवात ‘Amphan ‘ से उत्पन्न किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए West Bengal और Odisha में बल की कुल 41 टीमों को तैनात किया गया है। प्रधान ने कहा कि चक्रवात ‘Amphan ‘ के रूप में यह दूसरी आपदा आ रही है क्योंकि हम पहले ही कोविड-19 का मुकाबला कर रहे हैं और इसलिए बड़े स्तर पर तैयारियां की गई है। Amphan से प्रभावित होने वाले दो राज्य Odisha और पश्चिम बंगाल में NDRF की कुल 41 टीमों को तैनात किया गया है।
  9. भारत मौसम विज्ञान विभाग के निदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि चूंकि चक्रवात धीरे-धीरे कमजोर हो रहा है इसलिए Odisha में इसका असर बहुत ज्यादा होने की संभावना नहीं है। उन्होंने कहा कि हालांकि जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक और बालासोर जैसे तटीय जिलों में मंगलवार शाम से भारी बारिश होने और तेज हवाएं चलने की आशंका है।
  10. West Bengal में उत्तरी और दक्षिणी 24 परगना, पूर्वी मिदनापुर जिले और पारिस्थितिकी की दृष्टि से संवेदनशील सुंदरवन को तेज जल प्रवाह और जानमाल के नुकसान का गंभीर खतरा है। राज्य के आपदा विभाग मंत्री जावेद खान ने कहा, ”लोगों को चक्रवात आश्रय केंद्रों, स्कूल और कॉलेजों में रखा गया है। पिछले साल चक्रवाती तूफान ‘फोनी और ‘बुलबुल से निपटने के हमारे अनुभव काम आएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *