शशांक मनोहर ने आईसीसी के चेयरमैन पद से दिया इस्तीफा, अध्यक्ष की रेस में गांगुली

नई दिल्ली- भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर ने इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) के पहले स्वतंत्र चेयरमैन पद से इस्तीफा दे दिया है। गवर्निंग काउंसिल की बैठक में यह बहुत पहले ही साफ हो गया था कि शशांक का कार्यकाल नहीं बढ़ाया जाएगा। जिसके बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया। शशांक ने नवंबर 2015 में ICC चेयरमैन का पद संभाला था। ICC ने कहा कि चेयरमैन शशांक मनोहर ने दो साल के दो कार्यकाल के बाद पद छोड़ दिया है। इसी के साथ BCCI का ICC में वर्चस्व भी समाप्त हो गया। वहीं उप-चेयरमैन इमरान ख्वाजा चुनाव प्रक्रिया पूरी होने तक अंतरिम चेयरमैन होंगे।

ICC बोर्ड के अगले हफ्ते तक अगले अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया को स्वीकृति देने की उम्मीद है। जिसमें भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और BCCI के अध्यक्ष सौरभ गांगुली और इंग्लैंड व वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के पूर्व चेयरमैन कोलिन ग्रेव्स ICC चेयरमैन पद के मुख्य दावेदार हैं। सौरभ गांगुली की दावेदारी हालांकि इस बात पर निर्भर करती है कि उच्चतम न्यायालय उन्हें लोढा समिति के प्रशासनिक सुधारवादी कदमों के तहत अनिवार्य ब्रेक में छूट देकर BCCI अध्यक्ष पद पर बने रहने का मौका देता है या नहीं।

क्रिकेट वेस्टइंडीज के पूर्व प्रमुख डेव कैमरन, न्यूजीलैंड के ग्रेगोर बार्कले, क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका के क्रिस नेनजानी भी इस पद को लेकर रुचि दिखा चुके हैं। मौजूदा संविधान के अनुसार गांगुली राज्य और बीसीसीआई में पदाधिकारी के तौर पर छह साल का कार्यकाल 31 जुलाई को खत्म हो रहा है और वह ICC चेयरमैन पद के लिए दावेदारी पेश करने के पात्र हैं। ICC के नियमों के अनुसार मनोहर दो और साल के लिए अपने पद पर रह सकते थे क्योंकि स्वतंत्र चेयरमैन के लिए अधिकतम तीन कार्यकाल की स्वीकृति है।


बता दें कि शशांक मनोहर 62 वर्ष पेशे से वकील है। वह इससे पहले दो बार BCCI अध्यक्ष रहे। वह 2008 से 2011 तक BCCI अध्यक्ष रहे और फिर अक्टूबर 2015 से मई 2016 तक दोबारा इस पद पर काबिज हुए। दूसरे कार्यकाल का एक हिस्सा ICC चेयरमैन पद के दौरान रहा।