झारखंड: BJP में हो सकता है JVM का विलय

झारखण्ड देश

झारखंड विधानसभा चुनाव में करारी हार का सामना करने के बाद BJP को थोड़ी राहत मिल सकती है। झारखंड के पूर्व CM और JVM सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी अपनी पार्टी का BJP में विलय कर सकते हैं। 2006 में BJP से अलग होकर बाबूलाल मरांडी ने झारखंड विकास मोर्चा को निर्माण किया था, लेकिन अब उन्होंने ‘घर वापसी’ के संकेत दिए हैं। विधानसभा चुनाव में JVM का प्रदर्शन बेहद औसत रहा और उसके सिर्फ 3 विधायक ही जीत दर्ज करने में कामयाब हो पाए थे।

2014 में बाबूलाल मरांडी की पार्टी के 8 विधायक जीत दर्ज करने में कामयाब हुए थे। हालांकि चुनाव के कुछ वक्त बाद ही 6 विधायक उनका साथ छोड़ते हुए BJP में शामिल हो गए। 2019 लोकसभा चुनाव में बाबूलाल मरांडी महागठबंधन में शामिल हुए थे, लेकिन विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने कांग्रेस की अगुवाई वाले गठबंधन से खुद को अलग कर लिया था।

विधानसभा चुनाव में अकेले मैदान में उतरने पर झारखंड विकास मोर्चा का प्रदर्शन बेहद खराब रहा। JVM विधानसभा चुनाव में 5 फीसदी से ही वोट हासिल करने में कामयाब हुई। विधानसभा चुनाव के बाद बाबूलाल मरांडी ने महागठबंधन की सरकार को समर्थन देने का ऐलान किया था। टीवी मीडिया को दिए बयान में मरांडी ने कहा है कि विधायकों के दबाब के चलते उन्होंने ऐसा कदम उठाया था। इसके साथ ही मरांडी ने ये भी कहा है कि विलय करने के लिए BJP की उनकी प्राथमिकता है।

अंग्रेजी अखबार द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार BJP के सेंट्रल लीडरशिप ने JVM के विलय के बारे में बात करने के लिए पूर्व CM रघुवर दास को दिल्ली बुलाया है। रघुवर दास के दिल्ली पहुंचने के बाद ही BJP और JVM के विलय की तस्वीर साफ हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *