इंजमाम उल हक बोले, T20 WC की जगह आईपीएल हुआ तो आईसीसी सवालों के घेरे में होगी

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इंजमाम उल हक ने कहा है कि अगर Covid-19 महामारी के कारण ऑस्ट्रेलिया में होने वाले ICC टी20 विश्व कप को रद्द किया जाता है और उसकी जगह इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का आयोजन किया जाता है तो सवाल उठेंगे। पूरी संभावना है कि कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए टी20 विश्व कप को रद्द कर दिया जाएगा। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने हालांकि ऑस्ट्रेलिया में 18 अक्टूबर से 15 नवंबर तक होने वाले टी20 विश्व कप के भविष्य को लेकर अब तक कोई फैसला नहीं किया है।

इंजमाम ने अपने यूट्यूब चैनल पर रविवार को कहा, ”इस तरह की अटकलें है कि विश्व कप की तारीखें इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) और भारत-ऑस्ट्रेलिया सीरीज के साथ टकरा रही हैं इसलिए इसका (टी20 विश्व कप) आयोजन नहीं होगा।” उन्होंने कहा, ”भारतीय बोर्ड मजबूत है और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) में उसका नियंत्रण है। अगर ऑस्ट्रेलिया कहता है कि कोविड-19 महामारी के कारण हम विश्व कप का आयोजन नहीं कर सकते तो उनके रुख को आसानी से स्वीकार कर लिया जाएगा, लेकिन अगर उसी समय इस तरह की कोई प्रतियोगिता होती है तो सवाल उठेंगे।”

पाकिस्तान के लिए 120 टेस्ट में 8830 रन और 378 वनडे इंटरनेशनल मैचों में 11739 रन बनाने वाले 50 साल के इस पूर्व बल्लेबाज ने कहा, ”लोग सोचेंगे कि अगर देश 12 से 14 टीमों (16 टीमों) की मेजबानी कर सकता है तो फिर ICC टीमों की देखभाल क्यों नहीं कर सकता, आखिर ऑस्ट्रेलिया इतना आधुनिक देश है।”उन्होंने कहा, ”एक अन्य चीज यह है कि ICC को निजी लीग (आईपीएल) को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर प्राथमिकता नहीं देनी चाहिए। इससे युवा खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय मैचों की जगह निजी लीग में खेलने को बाध्य होंगे।”

पाकिस्तान के इस पूर्व कोच ने हालांकि स्वीकार किया कि टी20 विश्व कप के दौरान 16 टीमों की मेजबानी आसान नहीं होगी। इंजमाम ने कहा, ”ऑस्ट्रेलिया कह सकता है इस बड़ी प्रतियोगिता के लिए 18 टीमों (16 टीमों) की मेजबानी मुश्किल होगी, क्योंकि यह आसान नहीं होगा। इसी तरह पाकिस्तान की टीम इंग्लैंड में होटल में है और वहां सारी सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं, इसलिए 18 टीमों (16 टीमों) को रखना आसान नहीं होगा।”

एशिया कप का भविष्य भी एक मुद्दा है, जिसका आयोजन पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) सुरक्षा कारणों से तटस्थ देश में कर रहा है। इस टूर्नामेंट का आयोजन सितंबर में होना था लेकिन अभी इसके भविष्य को लेकर कोई फैसला नहीं किया गया है।

इंजमाम ने कहा, ”मैंने सुना है कि एशिया कप की तारीखों को लेकर भी आपत्ति जताई जा रही है क्योंकि इसकी तारीखें किसी अन्य प्रतियोगिता से टकरा रही हैं।” उन्होंने कहा, ”ICC, एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) और सभी क्रिकेट बोर्ड को एक साथ बैठकर मजबूत संदेश देना चाहिए कि ऐसी कोई छवि (अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर निजी लीग को प्राथमिकता देना) पेश नहीं की जाएगी।